test
37 C
Ahmedabad
Saturday, June 15, 2024

‘अदालत को हल्के में न लें…’, सुप्रीम कोर्टने दिल्ली सरकारको लगाई फटकार; कहा- हम खारिज कर देंगे याचिका


 

Advertisement

दिल्ली जल संकट मामले में दिल्ली सरकार की याचिका की खामियां दूर न होने के कारण सोमवार को सुनवाई टल गई। सुप्रीम कोर्ट ने याचिका के दोष दूर न करने पर दिल्ली सरकार को फटकार लगाई। कोर्ट ने कहा अदालत को हल्के में न लें।

Advertisement

12 जून तक टली सुनवाई

Advertisement

दिल्ली सरकार को याचिका के दोष दूर करने का निर्देश देते हुए कोर्ट ने मामले की सुनवाई 12 जून तक के लिए टाल दी। दिल्ली सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में रिट याचिका दाखिल कर गंभीर जल संकट का मुद्दा उठाया है। दिल्ली सरकार ने याचिका में हिमाचल प्रदेश से और हरियाणा से अतिरिक्त जल दिलाए जाने की मांग की है।

Advertisement

कोर्ट ने स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने का दिया था निर्देश

Advertisement

पिछली सुनवाई पर कोर्ट ने हिमाचल प्रदेश सरकार को निर्देश दिया था कि वह 137 क्यूसिक अतिरिक्त जल दिल्ली के लिए छोड़ेगी और हरियाणा उसे दिल्ली तक पहुंचाने में मदद करेगा। कोर्ट ने सात जून से अतिरिक्त जल छोड़ने का निर्देश देते हुए अपर यमुना रिवर बोर्ड से आदेश का अनुपालन कर 10 जून को स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने को कहा था और मामले को 10 जून को फिर सुनवाई पर लगाने का निर्देश दिया था।

Advertisement

दिल्ली सरकार ने दोषों को नहीं किया दूर

Advertisement

सोमवार को यह मामला फिर से न्यायमूर्ति प्रशांत कुमार मिश्रा और प्रसन्ना बालचंद वराले की अवकाशकालीन पीठ के समक्ष सुनवाई पर लगा था। कोर्ट को पता चला कि रजिस्ट्री द्वारा याचिका में बताए गए दोषों को दिल्ली सरकार की ओर से दूर नहीं किया गया है। याचिका में दोष होने के कारण न तो मामले में स्थिति रिपोर्ट दाखिल हो पाई और न ही अन्य पक्षों के हलफनामे दाखिल हुए। वरिष्ठ वकील विक्रमजीत बनर्जी ने सुनवाई के दौरान कोर्ट में रिपोर्ट दी और कहा कि यह हमारी स्थिति रिपोर्ट है।

Advertisement

कोर्ट ने दिल्ली सरकार को लगाई फटकार

Advertisement

हरियाणा की ओर से पेश वरिष्ठ वकील श्याम दीवान ने भी हरियाणा का हलफनामा कोर्ट में दिया। जब कोर्ट ने पूछा कि आप अब हलफनामा क्यों दे रहे हैं तो दीवान ने बताया कि याचिका के दोष दूर नहीं किये गए हैं इसलिए रजिस्ट्री ने हलफनामा स्वीकार नहीं किया। इस पर कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए दिल्ली सरकार से कहा कि पिछले सप्ताह ही दोषों की ओर इशारा किया गया था और अभी तक आपने उन्हें दूर नहीं किया। याचिका में दोष होने के कारण रजिस्ट्री स्थिति रिपोर्ट और हलफनामे स्वीकार नहीं कर रही। आपने दोष ठीक क्यों नहीं किये।

Advertisement

हम खारिज कर देंगे याचिका- कोर्ट

Advertisement

कोर्ट ने कहा कि मामला कितना भी महत्वपूर्ण क्यों न हो हम याचिका खारिज कर देंगे। आप अदालत को हल्के में न लें। पीठ ने नाराजगी जताते हुए कहा कि आप सीधे अदालत में बहुत सारे दस्तावेज सौंपते हैं और पानी की गंभीर कमी की बात कहते हुए उसी दिन आदेश देने का अनुरोध करते हैं। आपने तत्काल मामला सुने जाने के लिए सारे आधार दिये और इसके बाद आराम से बैठ गए।

Advertisement

कोर्ट में दिल्ली सरकार ने क्या कहा?

Advertisement

दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि याचिका के दोष दूर कर दिये गए हैं। इस पर पीठ ने कहा कि जो भी खामियां बची हैं उन्हें आज ही दूर करें और मामले को 12 जून को फिर सुनवाई पर लगाया जाए। कोर्ट ने कहा कि सारी चीजें (हलफनामे और रिपोर्ट) रिकॉर्ड पर आने दें। हम अदालत में सुनवाई से पहले मामले की फाइलें पढ़ना चाहते हैं। कोर्ट ने कहा कि अखबारों में बहुत सारी खबरें आ रही हैं। अगर वह अपने आवासीय कार्यालय में फाइलें नहीं पढ़ते हैं तो अखबारों में आयी खबरों से प्रभावित होंगे जो किसी भी पक्ष के लिए अच्छा नहीं है।

Advertisement
Advertisement

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -
- Advertisement -

વિડીયો

- Advertisement -
error: Content is protected !!