test
32 C
Ahmedabad
Sunday, July 14, 2024

केजरीवाल को नहीं मिली जमानत, हाईकोर्ट ने कहा- बेल देते समय ट्रायल कोर्ट ने विवेक का इस्तेमाल नहीं किया


नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को अभी जेल में ही रहना होगा. दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली आबकारी घोटाला मामले में केजरीवाल को ट्रायल कोर्ट से मिली जमानत के आदेश पर रोक लगा दी है. जस्टिस सुधीर कुमार जैन की वेकेशन बेंच ने ये फैसला सुनाते हुए कहा कि कि ट्रायल कोर्ट का आदेश सही नहीं है. उसे सभी दस्तावेजों पर गौर करना चाहिए था. कोर्ट ने कहा कि ट्रायल कोर्ट को ED को दलीलें रखने का पर्याप्त मौका देना चाहिए था.

Advertisement

हाईकोर्ट ने कहा कि ट्रायल कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिग एक्ट की धारा 45 की दो शर्तों का पालन नहीं किया है. ट्रायल कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के पहले के आदेशों को सही ढंग से नहीं लिया. हाईकोर्ट ने कहा कि केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट की ओर से मिली अंतरिम जमानत याचिका चुनाव प्रचार के लिए दी गई थी. ऐसे मे उस आदेश का हवाला व्यक्तिगत स्वतंत्रता के लिए नहीं दिया जा सकता है.
हाईकोर्ट की तल्ख टिप्पणी

Advertisement

निचली अदालत ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में केजरीवाल को जमानत देते समय विवेक का इस्तेमाल नहीं किया.

Advertisement

निचली अदालत के न्यायाधीश को जमानत याचिका पर फैसला करते समय ED को पर्याप्त अवसर देना चाहिए था.

Advertisement

ट्रायल कोर्ट ने केजरीवाल के खिलाफ ED की ओर से पेश सामग्री की सराहना नहीं की.

Advertisement

जमानत पर रोक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगी AAP: आम आदमी पार्टी ने कहा कि वह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को निचली अदालत द्वारा दी गई जमानत पर रोक लगाने के दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश से असहमत है और इसे सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती देगी. बेल के आदेश को इस तरह से रोका नहीं जा सकता कल सुप्रीम कोर्ट ने भी माना है.

Advertisement

हाईकोर्ट ने इस मामले में 21 जून को फैसला सुरक्षित रख लिया था. सुनवाई के दौरान ED ने कहा था कि ट्रायल कोर्ट का पूरा आदेश ही गलत है. ED के मुताबिक ट्रायल कोर्ट ने उसकी दलीलों और साक्ष्यों पर बिल्कुल भी गौर नहीं किया और न ही कानून के मुताबिक फैसला दिया. ED ने कहा था कि अरविंद केजरीवाल के खिलाफ 2023 के बाद के जुटाए गए साक्ष्यों पर ध्यान दिए बगैर फैसला कर दिया गया. ED ने कहा था कि ट्रायल कोर्ट ने गोवा के आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं और आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों के बयानों को अनदेखा करते हुए केजरीवाल को जमानत देने का आदेश दिया.

Advertisement

ED ने कहा था कि ट्रायल कोर्ट में सुनवाई के दौरान उसे जमानत का विरोध करने के लिए पर्याप्त अवसर नहीं देकर मनी लॉन्ड्रिग एक्ट की धारा 45 के एक शर्त का उल्लंघन किया गया है. बता दें कि 24 जून को सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट की ओर से जमानत पर अंतरिम रोक लगाने के आदेश के खिलाफ केजरीवाल की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई टाल दिया था.

Advertisement
Advertisement

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -
- Advertisement -

વિડીયો

- Advertisement -
error: Content is protected !!