33 C
Ahmedabad
Tuesday, May 28, 2024

महादेव सट्टा ऐप केस का बिहार और बंगाल कनेक्शन, पांच आरोपी कोलकाता से गिरफ्तार, क्रिप्टो करेंसी से लेन देन का खुलासा


रायपुर

Advertisement

महादेव सट्टा ऐप केस में रायपुर पुलिस की कार्रवाई तेज गति से जारी है. बीते 9 मई को मध्यप्रदेश के पंचमढ़ी से छत्तीसगढ़ पुलिस के बर्खास्त आरक्षक अर्जुन यादव को EOW ने गिरफ्तार किया था. उसके बाद से लगातार अर्जुन यादव से पूछताछ की जा रही है. इस पूछताछ में पुलिस को अहम लीड मिली कि महादेव सट्टा एप से जुड़े आरोपी पश्चिम बंगाल के कोलकाता में हैं. रायपुर पुलिस ने एक टीम बनाकर कोलकाता में दबिश दी और कुल पांच आरोपियों को शनिवार को गिरफ्तार किया. गिरफ्तार किए सभी आरोपी बिहार के रहने वाले हैं. इस केस में पुलिस ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की है.
कोलकाता के फ्लैट में छिपकर कर रहे थे सट्टेबाजी: छत्तीसगढ़ पुलिस के आईजी अमरेश मिश्रा ने रायपुर में रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में गिरफ्तारी की पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि सभी पांचों आरोपी फ्लैट में छिपकर सट्टेबाजी का संचालन कर रहे थे. सभी आरोपी बिहार के रहने वाले हैं और अर्जुन यादव के पैनल के लिए काम कर रहे थे. आरोपियों के पास से लैपटॉप और मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं. गिरफ्त में आए सभी आरोपी आईपीएल मैच पर भी सट्टा खिलाने का काम कर रहे थे. पुलिस की पूछताछ में महादेव सट्टा एप के जरिए आईपीएल में सट्टेबाजी का खुलासा भी रायपुर पुलिस ने किया है. आरोपी महादेव सट्टा ऐप के 364 आईडी पैनल के माध्यम से सट्टा का संचालन कर रहे थे. आरोपियों के पास से सात लैपटॉप और 19 मोबाइल फोन बरामद किए हैं. सभी की कीमत 6 लाख 60 हजार रुपये है. इससे पहले भी रायपुर पुलिस ने आठ आरोपियों को सट्टेबाजी के केस में गिरफ्तार किया था.

Advertisement

कई बैंक खातों का हुआ खुलासा: आरोपियों से पुलिस को कई बैंक खातों का पता चला है. अब तक पुलिस को कुल 32 करोड़ रुपये से अधिक के लेन देने का पता चला है. आरोपियों के पास से कुल 35 बैंक खाते मिले हैं. जिनमें कई तरह के ट्रांजैक्शन किए गए हैं. जिसकी तहकीकात की जा रही है. मोबाइल और बैंक खाते से हजारों प्लेयर की जानकारी भी पुलिस को मिली है जिस पर जांच की जा रही है.

Advertisement

क्रिप्टो करेंसी के जरिए हो रहा था ट्रांजैक्शन: पुलिस ने यह भी खुलासा किया है कि महादेव सट्टा ऐप में आरोपियों ने हवाला के जरिए ट्रांजैक्शन किया. इस दौरान जब हवाला और बैंक के जरिए ट्रांजैक्शन में दिक्कत होने लगी तो आरोपियों ने क्रिप्टो करेंसी के जरिए ट्रांजैक्शन करना शुरू कर दिया. पुलिस ने इस ओर भी जांच की बात कही है.

Advertisement

“महादेव सट्टा ऐप केस में लगातार पुलिस की तरफ से कार्रवाई की जा रही है. यह नया पैनल जो कि बर्खास्त आरक्षक अर्जुन यादव के द्वारा संचालित किया जा रहा था. उसी पैनल को संचालित करने वाले पांच आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है. इस केस में करोड़ों के ट्रांजैक्शन सामने आए हैं. महादेव सट्टा ऐप के खिलाफ हमारी जांच आगे भी जारी रहेगी”: अमरेश मिश्रा, आईजी, छत्तीसगढ़ पुलिस

Advertisement

गिरफ्तार आरोपियों के बारे में जानिए

Advertisement

गोपी यादव, उम्र 23 साल, बांका के कटोरिया का रहने वाला

Advertisement

महेश यादव, उम्र 19 साल, बांका के चांदन का रहने वाला

Advertisement

मिथुन कुमार, उम्र 24 साल, बांका के कटोरिया का रहने वाला

Advertisement

मुकेश कुमार, उम्र 29 साल, बांका के सुइया का रहने वाला

Advertisement

रूपेश कुमार, उम्र 21 साल, बांका के बेल्हर का रहने वाला

Advertisement

महादेव सट्टा ऐप केस में गिरफ्तार अर्जुन यादव पहले छत्तीसगढ़ पुलिस में काम करता था. सट्टेबाजी केस में नाम आने के बाद उसे बर्खास्त किया गया. 9 मई को उसकी गिरफ्तारी एमपी से हुई उसके बाद उसे रायपुर की कोर्ट ने 14 मई तक रिमांड पर भेजा. अर्जुन यादव से पूछताछ में उसके नेटवर्क का पता चल रहा है. जिसके आधार पर यह कार्रवाई हो रही है.

Advertisement
Advertisement

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -
- Advertisement -

વિડીયો

- Advertisement -
error: Content is protected !!