33 C
Ahmedabad
Tuesday, May 28, 2024

नई दिल्ली : रूस-यूक्रेन युद्ध मानव तस्करी मामले में सीबीआई की बड़ी कार्रवाई, चार लोगों को पकड़ा
रूस-यूक्रेन युद्ध क्षेत्र में भारतीयों को भेजने वाले मानव तस्करी नेटवर्क में कथित रूप से संलिप्त चार लोगों को सीबीआई ने गिरफ्तार किया है। इनमें रूसी रक्षा मंत्रालय में संविदा पर कार्यरत अनुवादक भी शामिल है। अधिकारियों ने कहा कि इस मामले में अभी कुछ और लोगों को गिरफ्तार किया जा सकता है।

Advertisement

सीबीआई ने दो लोगों को पकड़ा

Advertisement

सीबीआई ने देर रात एक बयान में बताया कि जांच एजेंसी ने मंगलवार को केरल के तिरुअनंतपुरम से भर्ती करने वाले दो लोगों अरुण और येसुदास जूनियर उर्फ प्रियन को गिरफ्तार किया है, जबकि दो अन्य आरोपितों रूसी रक्षा मंत्रालय में एक संविदा अनुवादक निजिल जोबी बेंसम और मुंबई निवासी एंथनी माइकल एलंगोवन को 24 अप्रैल को गिरफ्तार किया था। बेंसम और एलंगोवन न्यायिक हिरासत में हैं।

Advertisement

एक अधिकारी ने बताया कि बेंसम रूसी सेना में भारतीय नागरिकों की भर्ती करने वाले रूस में संचालित नेटवर्क के प्रमुख सदस्यों में से एक था। बयान के मुताबिक, एंथनी माइकल दुबई में अपने सह-आरोपित फैसल बाबा और रूस में स्थित अन्य लोगों की चेन्नई में वीजा प्रक्रिया पूरी करवाने और पीडि़तों के रूस जाने के लिए हवाई टिकट बुक करने में मदद कर रहा था।

Advertisement

रूस में अच्छी नौकरियों का लालच दे रहा था एजेंट

Advertisement

अरुण और येसुदास जूनियर रूसी सेना के लिए केरल और तमिलनाडु से संबंधित भारतीय नागरिकों की भर्ती करने वाले मुख्य व्यक्ति थे। अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई ने ट्रैवल एजेंट के एक बड़े गिरोह का भंडाफोड़ किया था जो भारतीय युवाओं को रूस में अच्छी नौकरियों का लालच दे रहा था, लेकिन बाद में उनके पासपोर्ट जब्त करके उन्हें रूस-यूक्रेन युद्ध क्षेत्र में धकेल दिया था।
जांच एजेंसी की प्राथमिकी में देशभर में फैली 17 वीजा परामर्श कंपनियों, उनके मालिकों और एजेंटों को नामजद किया गया है। एजेंसी ने उन पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और मानव तस्करी से संबंधित मामला दर्ज किया है।

Advertisement

सीबीआई ने लगाए ये आरोप

Advertisement

सीबीआई ने आरोप लगाया कि आरोपितों ने अपने एजेंटों के माध्यम से रूसी सेना, सुरक्षा गार्ड और सहायकों से संबंधित नौकरियां दिलाने के बहाने रूस में भारतीय नागरिकों की तस्करी की और उनसे बड़ी रकम वसूली।
एजेंटों ने शुल्क में छूट और वीजा एक्सटेंशन की पेशकश करके सरकारी या सार्वजनिक विश्वविद्यालयों के बजाय रूस में संदिग्ध निजी विश्वविद्यालयों में प्रवेश दिलवाकर छात्रों को धोखा दिया। बाद में छात्रों को स्थानीय एजेंटों की दया पर छोड़ दिया गया। सीबीआइ को ऐसे 35 मामले मिले हैं जिनमें इंटरनेट मीडिया मंचों, स्थानीय संपर्कों और एजेंटों के माध्यम से उच्च वेतन वाली नौकरियों के झूठे वादे का लालच देकर युवाओं को रूस ले जाया गया था।

Advertisement
Advertisement

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -
- Advertisement -

વિડીયો

- Advertisement -
error: Content is protected !!